Breaking News

आखिर अमेरिका ने अफगानिस्तान पर मित्र राष्ट्रों के साथ मिलकर क्यों किया हमला

आज से 17 वर्ष पहले आतंकवाद का सफाया करके जिस अमन  शांति को स्थापित करने के जिस मकसद से अमेरिका ने अफगानिस्तान पर मित्र राष्ट्रों के साथ हमला किया था, उसका वह मकसद पूरा होता दिखाई नहीं दे रहा है बुधवार की रात को अफगानिस्तान के पश्चिमी फराह प्रांत के जिला खकी सफेड में स्थित पुलिस चौकी पर हमला कर तालिबान के आतंकवादियों ने 30 पुलिसवालों की मर्डर कर दी आलम ये है कि साल 2004 से लेकर अब तक अमेरिका ने अफगानिस्‍तान में मौजूद तालिबान को ख़त्म करने के लिए वहां 38409 बम गिराए हैं, इसके बाद भी अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान सक्रीय है

Image result for अमेरिका ने अफगानिस्तान पर मित्र राष्ट्रों के साथ किया हमला

इस वर्ष सितम्बर तक तालिबान के खात्मे के लिए अमेरिका  उसकी सहायक सेनाओं ने 5213 बम मारे, यह अब तक हुई बमवर्षा की सर्वाधिक संख्या है इससे पहले 2010 में सर्वाधिक 5101 बम गिराए गए थे वहीं इसके बाद भी तालिबानी हमलों मे इसी वर्ष अफ़ग़ान के 711 जवान  1271 नागरिक मारे गए हैं ओबामा का राष्ट्रपति काल खत्म होने के बाद से बम बरसाने की संख्या कम हुई है, लेकिन पिछले अगस्त में राष्ट्रपति ट्रंप ने नयी अफगान रणनीति के तहत ज्यादा सैनिकों को तैनाती कर दी थी, जिसके बाद से बमवर्षा भी अधिक हो गई है

उल्लेखनीय है कि अमेरिका द्वारा लड़ा गया वियतनाम युद्ध इतिहास का सबसे लंबा युद्ध है, लेकिन जिस तरह से अमेरिका अफ़ग़ानिस्तान में उलझा हुआ है, उससे लगता है कि यह उसका सबसे लंबा युद्ध बन जाएगा वर्तमान में अफगानिस्तान में 14 हजार अमेरिकी जवान मौजूद हैं लेकिन फिर भी तालिबान का दमन नहीं किया जा सका है, एक बार फिर तालिबान ने पलटवार करते हुए आधे अफगानिस्तान को अपने के में कर लिया है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *