Breaking News

इस शरद पूर्णिमा रात में पढ़े यह मंत्र व जरुर जानिए इसके धार्मिक और औषधीय महत्व

हर साल मनाया जाने वाला शरद पूर्णिमा का पर्व इस साल 30 अक्टूबर को मनाया जाने वाला है। यह पर्व धन की बरसात करने वाला पर्व माना जाता है। कहा जाता है इस दिन कुबेर का पूजन करना चाहिए क्योंकि वह धन के राजा हैं। उनका पूजन करने से धन वर्षा होती है। जी दरअसल पृथ्वीलोक की समस्त धन संपदा का एकमात्र कुबेर को ही स्वामी कहा जाता है।

क्या है महत्व: पूर्णिमा तिथि को चंद्रमा अपनी सोलह कलाओं से पूर्ण होता है। पौराणिक मान्यता है कि इस दिन चंद्रमा की किरणों से अमृत बूंदें झरती हैं। पूर्णिमा की रात में जिस भी चीज पर चंद्रमा की किरणें गिरती हैं उसमें अमृत का संचार होता है।

इसलिए शरद पूर्णिमा की रात में खीर बनाकर चंद्रमा की रोशनी में रखी जाती है। पूरी रात चंद्रमा की रोशनी में खीर को रखा जाता है सुबह उठकर यह खीर प्रसाद के रुप में ग्रहण की जाती है। चंद्रमा की रोशनी में रखी गई खीर खाने से शरीर के रोग समाप्त होते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *