Breaking News

यहाँ जानिए नवरात्रि में जौ उगाने का महत्व, घर में सुख-समृधि के साथ पूरी होंगी मनोकामनाएं

इस वर्ष नवरात्रि 17 अक्टूबर से शुरू होने जा रही है। इस दौरान माता रानी के 9 रूपों को पूजा जाता है। इन सभी की पूजा पूरे विधि-विधान के साथ की जाती है। नवरात्रि में जौ बोने का भी विधान है। यह परंपरा सदियों से चली आ रही है। लेकिन क्या आप यह जानते हैं कि यह क्यों किया जाता है? जागरण अध्यात्म के इस लेख में हम आपको बताएंगे कि नवरात्रि की पूजा में जौ बोने का क्या महत्व होता है।

ग्रंथों में जौ को ब्रह्मा का रूप माना जाता हैं प्राचीन काल में जब हवन किया जाता था तब आहुति देने की परंपरा थी। इसी तरह से अन्न यानी जौ का भी सम्मान करना चाहिए। इसी से इसके महत्व का पता चलता हैं नवरात्रि के दौरान जौ बोया जाता हैंजौ जातक के भविष्य में आने वाले संकेतों को भी दर्शाती हैं मान्यता है कि नवरात्रि में जब जौ बोई जाती हैं और वो जितनी बढ़ती हैं उतना ही माता रानी की कृपा प्राप्त होती हैं यह दर्शाता है कि मनुष्य के घर में सुख समृद्धि भी बनी रहती हैं।

ऐसा कहा जाता हैं कि अगर जौ के अंकुर 2 से 3 दिन में आ जाते हैं तो यह बहुत शुभ होता हैं अगर जौ नवरात्रि खत्म होने तक न उगे तो यह अच्छा नहीं माना जाता हैं कई बार ऐसा भी होता है कि अगर आपने जौ ठीक नहीं बोया है तो भी जौ नहीं होता हैं कई बार ठीक तरह से जौ न बोने से भी ऐसा हो सकता हैं ऐसे में ध्यान रखें कि जौ को अच्छे से बोए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *