Breaking News

संसद खत्म करने के निर्णय के विरूद्ध न्यायालय में मिली चुनौती

संसद खत्म करने के राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना के कदम को मंगलवार को पलट दिया  पांच जनवरी को प्रस्तावित मध्यावधि चुनाव की तैयारियों पर विराम लगाने का आदेश दिया वहां मौजूद पार्टी पदाधिकारियों ने यह बताया मुख्य न्यायाधीश नलिन पेरेरा की अध्यक्षता में तीन सदस्यों वाली एक पीठ ने सिरीसेना के नौ नवंबर के निर्णय के विरूद्ध दायर तकरीबन 13  पक्ष में दायर पांच याचिाकाओं पर दो दिन की अदालती कार्यवाही के बाद यह व्यवस्था दी

Image result for मैत्रीपाला सिरीसेना

शीर्ष न्यायालय ने व्यवस्था दी कि सिरीसेना के निर्णय से जुड़ी सभी याचिकाओं पर अब चार, पांच छह दिसंबर को सुनवाई होगी याचिकाकर्ताओं में विभिन्न पार्टियों के साथ स्वतंत्र चुनाव आयोग के एक सदस्य रत्नाजीवन हुले भी शामिल हैं सिरीसेना ने संसद खत्म कर दी थी  पांच जनवरी को मध्यावधि चुनाव करने के आदेश जारी किए थे इससे राष्ट्र अभूतपूर्व संकट में फंस गया

श्रीलंका की मुख्य राजनीतिक पार्टियों  चुनाव आयोग के एक सदस्य ने सोमवार को राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना को सुप्रीम न्यायालय में घसीटते हुए संसद खत्म करने के उनके विवादित निर्णय को चुनौती दी थी सिरिसेना ने संसद का कार्यकाल खत्म होने से करीब 20 माह पहले उसे खत्म करने का निर्णय लिया था उन्होंने नौ नवंबर को संसद खत्म करते हुए अगले वर्ष पांच जनवरी को मध्यावधि चुनाव कराने की घोषणा की है यह निर्णय उन्होंने यह स्पष्ट होने के बाद किया कि 72 वर्षीय महिंदा राजपक्षे के पास पीएम पद पर बने रहने के लिए सदन में पर्याप्त संख्या बल नहीं है

सिरिसेना ने 26 अक्टूबर को रानिल विक्रमसिंघे को पीएम पद से बर्खास्त करते हुए उनकी स्थानराजपक्षे को पीएम नियुक्त कर दिया था राजपक्षे को 225 सदस्यों वाले सदन में अपना बहुमत साबित करने के लिए कम से कम 113 सांसदों के समर्थन की आवश्यकता थी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *